बाल्टी में भुजिया बेचने वाला, कैसे! बना दुनिया का प्रसिद्ध ‘बीकानेरवाला’, केदारनाथ अग्रवाल की कहानी

बाल्टी में भुजिया बेचने वाला, कैसे! बना दुनिया का प्रसिद्ध ‘बीकानेरवाला’, केदारनाथ अग्रवाल की कहानी

आज की कहानी एक ऐसे व्यक्ति की है जिसने गली गली में मिठाई बेच कर विदेशों तक अपने व्यापार को बढ़ाया। बात करेंगे आज लाल केदारनाथ अग्रवाल उर्फ काका की। लाल केदारनाथ अग्रवाल के ब्रांड को हम सब जानते हैं उनका ब्रांड हैं बीकानेरवाला। बीकानेरवाला की मिठाइयां उनकी भुजिया हम सभी ने जरूर खाई हैं। देश के हर एक व्यक्ति को किसी एक नमकीन का नाम याद है तो वह बीकानेर की भुजिया है। लेकिन जब हम बीकानेर वाला के मालिक लाल केदारनाथ की कहानी देखें तो उनकी कहानी एक संघर्ष भरी कहानी है।

साल 1955 में केदारनाथ अग्रवाल अपने बड़े भाई के साथ काम करने के लिए दिल्ली आए। यहां इनके पास रहने के लिए मकान नहीं था, तो धर्मशाला में ही रहकर गुजारा करने लगे। दोनों भाइयों ने दिल्ली के अंदर व्यापार करने की सोची तो उन्होंने बाल्टी के अंदर रसगुल्ले और नमकीन बेचना शुरू किया। गली-गली जाकर दोनों भाई रसगुल्ले और नमकीन बेचा करते। जब लोगों ने उनकी नमकीन और उनके रसगुल्ले खाना शुरू किया तो लोग स्वाद के दीवाने हो गए। उनके मिठाई की डिमांड इतनी बढ़ने लगी कि लाल केदारनाथ जी ने बीकानेर से कारीगर बुला लिए।

बाल्टी में भुजिया बेचने वाला, कैसे! बना दुनिया का प्रसिद्ध ‘बीकानेरवाला’, केदारनाथ अग्रवाल की कहानी

धीरे-धीरे उन्होंने अपने कारोबार को बढ़ाना शुरू किया और साल 1972-73 में केदारनाथ जी ने करोल बाग में एक छोटी दुकान खरीद ली। अब उन्हीने वहां से व्यापार करना शुरू कर दिया। साल 1995 में हरियाणा के फरीदाबाद में एक नया प्लांट खोला गया। पेप्सीको कंपनी के ब्रांड लहर के लिए बीकानेरवाला नमकीन का उत्पादन किया करता था। इसके साथ ही हैदराबाद के बंजारा हिल्स में भी एक बुटीक होटल खोला गया। जब देश के अंदर फास्ट फूड अपने पैर पसार रहा था, तो लाल केदारनाथ जी ने साल 2003 में बिकानों चैट कैफे के नाम से एक फास्ट फूड रेस्टोरेंट्स शुरू किया।

इसके बाद बीकानेरवाला फूड्स प्राइवेट लिमिटेड आज दुनिया का जाना माना नाम बन गया है। इसके डायरेक्टर श्याम सुंदर अग्रवाल है, श्याम सुंदर अग्रवाल साल 1968 से ही कंपनी के साथ जुड़ गए थे। अपने पारिवारिक व्यापार को उन्होंने आगे बढ़ाया है। बीकानेरवाला आज दुनिया का जाना माना नाम है। बात करे तो सिर्फ दिल्ली एनसीआर में ही बीकानेरवाला के 42 आउटलेट है। भारत तक नहीं विदेशों में भी उनके आउटलेट है, दुबई में 12, नेपाल में सात वही न्यूजीलैंड,सिंगापुर और अमेरिका में 2 आउटलेट है। साल 2012, 2013 और 2014 लगातार 3 सालों तक टाइम्स फूड अवॉर्ड्स के बेस्ट स्वीट शॉप का पुरस्कार भी बीकानेरवाला ने ही जीता था। बीकानेरवाला भारत ही नहीं दुनिया के 30 देशों में निर्यात करता है। आज यह कंपनी लगभग 1100 करोड रुपए की कंपनी है।

बाल्टी में भुजिया बेचने वाला, कैसे! बना दुनिया का प्रसिद्ध ‘बीकानेरवाला’, केदारनाथ अग्रवाल की कहानी

एक बाल्टी में रसगुल्ले बेच कर अपना सफर शुरू करने वाले लाल केदारनाथ अग्रवाल आज बीकानेरवाला के नाम से दुनिया में जाना पहचाना नाम बन गए हैं। उनके जीवन का सफर संघर्ष भरा जरूर है लेकिन उनके इरादे पक्के थे इसलिए धर्मशाला में दिन बिताने से लेकर आज उन्होंने एक बड़े बंगले तक पहुंचने का सफर तय किया हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.