बच्चो, अगर कोरोना वैक्सीन लगवाने जा रहे हो तो ये काग़ज़ ज़रूर लेकर जाना

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत ने एक कदम और बढ़ा दिया है. देश में 3 जनवरी 2022 से 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन (Vaccination) शुरू हो गया है. इसके लिए रजिस्ट्रेशन शनिवार 1 जनवरी से ही शुरू कर दिया गया है. बढ़ते कोरोना मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) ने 25 दिसंबर 2021 को ये घोषणा की थी कि नए साल से 15 से 18 साल के बच्चों का भी वैक्सीनेशन शुरू किया जाएगा. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक फिलहाल देश में 15 से 18 साल के बच्चों की संख्या 7 से 8 करोड़ के बीच है.

children vaccination drive 15-18 years,

अभी बच्चों को भारत बायोटेक की कोवैक्सीन (Covaxin) की डोज दी जाएगी. कोवैक्सीन को सरकार ने 12 से 18 साल के बच्चों पर इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी पहले ही दे दी है. कोवैक्सीन के अलावा सरकार ने जायडस कैडिला की जायकोव-डी (Zycov-D) को भी मंजूरी दे दी है. जायकोव-डी 12 साल से ऊपर के लोगों के लिए है. हालांकि, देश में अभी तक जायकोव-डी लगनी शुरू नहीं हुई है.

कैसे होगा रजिस्ट्रेशन
सभी किशोरों को वैक्सीन लगवाने के लिए पहले स्लॉट बुक करने होंगे. इसके लिए Co-WIN ऐप पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा. नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के सीईओ डॉ. आरएस शर्मा ने बताया कि 1 जनवरी से 15 से 18 साल के बच्चे वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं. इसके लिए आपको अपने मोबाइल नंबर से लॉगिन करना होगा. जिन बच्चों के पास मोबाइल नहीं है, वे अपने माता-पिता के मोबाइल नंबर से भी लॉगिन कर सकते हैं, लेकिन ध्यान रहे कि एक नंबर पर सिर्फ चार लोगों का ही रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है. वैक्सीन स्लॉट बुक कराने के लिए बच्चों को फोटो आईडी की भी जरूरत होगी. डॉ. शर्मा ने बताया कि
कई बच्चों के पास आधार या दूसरे आइडी कार्ड नहीं होंगे, इसलिए 10वीं की मार्कशीट का ऑप्शन भी जोड़ा गया है. इसके अलावा बच्चे स्कूल के आइडी कार्ड से भी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं. साथ ही बच्चे अपने नजदीकी वैक्सीन केंद्र में जाकर ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन भी करवा सकते है.

वैक्सीनेशन कराने वाले स्टूडेंट्स के लिए जरूरी बातें

जिन स्टूडेंट्स का जन्म 31 दिसंबर 2007 से पहले हुआ है, वे वैक्सीन लगवा सकते हैं.

भारत सरकार द्वारा जारी आई कार्ड, जैसे आधार, पासपोर्ट, या कोई और है, तो उसके आधार पर वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं.

कक्षा 10 की मार्कशीट का भी उपयोग रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए कर सकते हैं.

इसके अलावा आपके स्कूल का आईकार्ड भी रजिस्ट्रेशन में काम करेगा.

सरकारी केंद्रों पर वैक्सीन फ्री लगाई जा रही है, वहीं प्राइ‌वेट केंद्रों और अस्पतालों में 1200 से 1410 रुपये तक लिए जा रहे हैं.

अगर आप किसी बीमारी से जूझ रहे हैं, तो वैक्सीन लेने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह करें. साथ ही वैक्सीन लगाने वाले मेडिकल स्टाफ को भी इस बारे में जानकारी दें.

वैक्सीन लगने के बाद कुछ नॉर्मल साइड इफेक्ट्स जैसे हल्का बुखार, सूजन, डिजिनेस, दर्द और बेचैनी जैसा महसूस हो सकता है. अगर वैक्सीन लगवाने के बाद बच्चों को ऐसी कोई शिकायत होती है तो इन सेंटरों पर किशोरों के लिए अलग हेल्प डेस्क और ऑब्जरर्वेशन रूम बनाए गए हैं, वहां संपर्क कर सकते हैं.

आमतौर पर ये साइड इफेक्ट एक से दो दिन में ठीक हो जाते हैं, लेकिन अगर कोई साइड इफेक्ट गंभीर नजर आता है जैसे एलर्जी, किसी तरह का इन्फेक्शन, तेज बुखार तो डॉक्टर को जरूर दिखाएं. वैक्सीन लगवाने के बाद अपनी डाइट का ध्यान रखें, ताजे फल और सब्जियां खाएं. वैक्सीन का शॉट लेते समय बिल्कुल घबराएं नहीं, सहज रहें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.