‘घर ले चलो, वहीं मरना है’ 💔

अस्पताल, अकसर ज़ाहिर सी वजहों से पसंद नहीं किए जाते हैं. कुछ ऐसे भी रहे, जो कोरोना होने पर पहली बार ज़िंदगी में अस्पताल में भर्ती हुए.

'घर ले चलो, वहीं मरना है' 💔

ऐसे लोगों का डर साफ झलकता है. एक सुबह कोविड ICU वॉर्ड में एक औरत भर्ती हुईं. बेहद परेशान और इलाज करवाने को लेकर बिलकुल अनिच्छुक.

वो घर जाना चाहती थीं. वो लगातार ये ज़िद करती रहीं कि परिवार से उनको बात करने दी जाए ताकि घरवाले आएं और अस्पताल से ले जाएं.

वो बोलीं, ”मेरा तो बच्चा भी नॉर्मल डिलिवरी से हुआ था क्योंकि मुझे ऑपरेशन नहीं करवाना था. आप मेरे उस दर्द का अंदाज़ा भी नहीं लगा सकतीं. मुझे बस घर जाने दो. चाहे फिर मैं वहां मर ही जाऊं.”

मैं उनको उनके इलाज के बारे में समझाती हूं, और कहती हूँ ‘आपको कुछ नहीं होगा..’

पर वो मेरी बात सुनने के लिए तैयार ही नहीं होतीं. मैं उनके बेटे को फोन करती हूं और फोन उनके पास रखती हूं.

वो अपने बेटे से कहती हैं- तू मेरा अच्छा बेटा नहीं है क्योंकि तू मेरे मना करने के बाद भी मुझे अस्पताल छोड़ गया.

बेटा मां से माफ़ी मांगता है और कहता है- डॉक्टर जो कहें वो करो मां.

बेटा मां से वादा करता है- मां आप “कुछ दिनों” में बेहतर महसूस करोगी तो मैं आकर आपको ले जाऊंगा.

क़रीब आधा घंटा लगा, तब जाकर वो कुछ शांत हुईं. हमने इलाज शुरू किया. हालांकि उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती रही.

वो मुझसे कहती हैं- ‘कुछ दिन’ पूरे हुए. मेरे बेटे को बुलाओ. उसने कहा था कि वो मुझे ले जाएगा. मुझे घर पर मरना है, अस्पताल में नहीं.

नहीं मालूम था कि क्या जवाब दूं? मैं उनके बेटे को फोन करती हूं और तबीयत के बारे में बताती हूं कि उन्हें मैकेनिकल वेंटिलेशन की ज़रूरत पड़ेगी. उनका बेटा फौरन हामी तो भर देता है लेकिन कहता है कि मां को फोन मत देना. क्योंकि वो मां की गुज़ारिशों को इंकार नहीं कह सकता.

वो मुझसे कहता है, ‘मां को समझाइए कि तबीयत ठीक होते ही घर ले जाऊंगा.’ ये कहते हुए उसकी आवाज़ लड़खड़ाने लगती है.

वो मुझे हर हाल में इलाज करने के लिए कहता है, ”आप मां की मत सुनिए. मां की जान बचाने के लिए जो ज़रूरी है वो कीजिए.”

हमने पूरी कोशिश की कि उनको बचाया जा सके. वो अब भी वेंटिलेटर पर हैं. कई दिन बीत गए.

उनका बेटा रोज़ फोन करता है. पर वो अब इस हाल में नहीं कि बात सुन भी सकें.
.
.

{ ICU वॉर्ड में ड्यूटी करने वाली डॉ @dr.dipshikhaghosh के अनुभव यानी

One thought on “‘घर ले चलो, वहीं मरना है’ 💔

Leave a Reply

Your email address will not be published.